फार्मासिस्ट के पदों को बढ़ाएं जाने की मांग, फेडरेशन ने CM योगी को लिखा पत्र

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के तहत ग्रामीणों की सेहत संवारने के लिए विधायक और मंत्रियों से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) को गोद लेने का फार्मासिस्ट फेडरेशन ने स्वागत किया। इसके साथ ही जनहित में जरूरत के मुताबिक फार्मासिस्टों के पद सृजित कर भरने की गुजारिश की है। इस संबंध में गुरुवार को फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव ने मुख्यमंत्री, प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य महानिदेशक को पत्र लिखा है। फेडरेशन के महामंत्री अशोक कुमार ने कहा कि सीएचसी की स्थिति को सुधार कर बड़े अस्पतालों से मरीजों के दबाव को कम कर सकते हैं। इससे गंभीर मरीजों को बेहतर इलाज मिलने की राह आसान होगी। सीएचसी में इमरजेंसी, ओपीडी और मेडिको लीगल समेत दूसरी सेवाएं दी जा रही हैं। औषधि भंडार, मेडिसिन काउंटर में कम से कम दो फार्मासिस्ट, इंजेक्शन, ड्रेसिंग रूम, प्लास्टर रूम, माइनर ओटी आदि सेवाओं के लिए भी दो फार्मासिस्ट होने चाहिए।

प्रत्येक CHC पर कम से कम सात फार्मासिस्ट के तैनाती की मांग

वरिष्ठ उपाध्यक्ष जेपी नायक ने कहा कि महज दो फार्मासिस्टों के पद सृजित हैं। नतीजतन फार्मासिस्टों को लगातार 24 से 36 घंटे अस्पताल में रहकर सेवा देनी पड़ रही है। प्रत्येक सीएचसी पर कम से कम सात फार्मासिस्ट तैनात होने चाहिए। संयोजक एवं फीपो के राष्ट्रीय अध्यक्ष के.के. सचान, डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप बडोला ने बताया कि शासन स्तर पर मानक संसोधन पर कई बार सहमति भी बनी है, महानिदेशालय से प्रस्ताव भी भेजे गए हैं लेकिन शासनादेश जारी ना होने से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर कार्य संचालन के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के फार्मेसिस्टों को बुलाया जाता है, जिससे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की सेवाएं भी प्रभावित हो जाती हैं। फेडरेशन के महामंत्री अशोक कुमार, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जे.पी. नायक, उपाध्यक्ष ओ.पी. सिंह, जनपद अध्यक्ष एस.एन. सिंह, डीपीए जनपद अध्यक्ष सुशील त्रिपाठी ने आशा व्यक्त की है कि मुख्यमंत्री द्वारा इस बिंदु पर ध्यान दिया जाएगा। फार्मासिस्ट संक्रामक बीमारी फैलने पर दवा बांटते हैं। इनके द्वारा ब्लॉक के स्वास्थ्य कार्यकताओं, आंगनबाड़ी, आशा आदि को भी दवाएं दी जाती हैं। राष्ट्रीय कार्यक्रमों में भी फार्मेसिस्टों की ड्यूटी लगाई जाती है। फार्मासिस्ट राष्ट्रीय कार्यक्रम नसबंदी के दिन मरीजों को दवा वितरण के साथ ही कैम्प का प्रबंधन भी करते हैं।

Most Populars